संतरे (Santre)

आदमी साथ में बैठी औरत से :अपने संतरे संभालिये वो मुझे परेशान कर रहे है 
औरत गुस्से से :तुम्हे क्या ,संतरे तो मेरे हैं ..
आदमी :हाँ हैं तो आपके लेकिन जूस तो मेरा निकल रहा है ना

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s